अनुक्रमणिका

अनुक्रमणिका

lotus icon 6 पृष्ठ क्र. 6

भारत विश्व का सर्वोच्च शक्तिशाली राष्ट्र होगा


भारत विश्व का सर्वोच्च शक्तिशाली राष्ट्र होगा

भारतीय शाश्वत् सनातन वैदिक ज्ञान विज्ञान विज्ञान के आधार पर वेदभूमि- पूर्णभूमि-देवभूमि-पुण्यभूमि-सिद्धभूमि- प्रतिभारत भारतवर्ष का जगद्गुरुत्व और ख्याति जिस प्रकार महर्षि जी ने समस्त भू- मण्डल में हजारों वर्षों के अन्तराल के पश्चात् पुन: स्थापित की और भारतीय वैदिक ज्ञान विज्ञान , योग, भावातीत ध्यान का लोहा मनवाया।

Subscribe Mahamedia Magazine to Read More...

lotus icon 6 पृष्ठ क्र. 8

धैर्यपूर्वक करें अभ्यास


धैर्यपूर्वक करें अभ्यास

मनुष्य के अन्दर जो पूर्णत्व निहित है उसकी अभिव्यक्ति शिक्षा है। एक बच्चा, जब जन्म लेता है, तो उसमें और पशु में कोई अंतर नहीं होता। पशु जैसे अपना सोचता है, बच्चा भी अपना सोचता है। उसका खिलौना उसका भाई भी ले ले तो रोने लगता है। लेकिन पूर्णत्व अभिव्यक्त करना, यानि धीरे-धीरे उसका अपनापन बढ़ना, अपने परिवार के साथ, फिर गाँव के साथ, फिर बढ़ते-बढ़ते सृष्टि के साथ।...

Subscribe Mahamedia Magazine to Read More...

lotus icon 6 पृष्ठ क्र. 10

बड़ी सोच का बड़ा जादू


बड़ी सोच का बड़ा जादू

बड़ी सोच का सबसे बड़ा जादू यह है कि इससे व्यक्ति का आभामंडल तेजोमय बनता है जिससे समाज में उसकी लोकप्रियता बढ़ने लगती है। उसके श्रेष्ठ विचारों का लोगों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। बड़ी सोच हमें ब्रह्माण्ड की असीम शक्तियों से जोड़ती है। बड़ी सोच का उद्देश्य भी यहीं है कि हम लोकमंगल के लक्ष्य को ध्यान में रखकर कार्य करें।...

Subscribe Mahamedia Magazine to Read More...

lotus icon 6 पृष्ठ क्र. 42

जनक जी ने सीता स्वयंवर में अयोध्या नरेश दशरथजी को निमंतरण क्यों नहीं भेजा ?


जनक जी ने सीता स्वयंवर में अयोध्या नरेश दशरथजी को निमंतरण क्यों नहीं भेजा ?

जनकजी ने जो प्रण ठाना था, उसे सुन कर द्वीप-द्वीप के अनेक राजा आए। देवता और दैत्य भी मनुष्य का शरीर धारण करके आए तथा और भी बहुत से रणवीर आए। राजा लोग हृदय से हारकर श्रीहीन (हतप्रभ) हो गए और अपने-अपने समाज में जा बैठे। राजाओं को असफल देखकर राजा जनक अकुला उठे और ऐसे वचन बोले जो मानों क्रोध से सने हुए थे।...

Subscribe Mahamedia Magazine to Read More...